इन्टरनेशनल बास्केटबाल कोच के. राजेश्वर राव बिदाई पर छत्तीसगढ़ में बास्केटबाल खेल का क्षति।

इन्टरनेशनल बास्केटबाल कोच के राजेश्वर राव मेरे एक अच्छे बड़े भाई के समान, खुबसूरत मित्र, पथप्रदर्शक सहयोगी के साथ ही साथ मेरे बास्केटबाल खेल के गुरू भी हैं।
बास्केटबाल खेल के द्रोणाचार्य के. राजेश्वर राव का इस तरह स्थानान्तरण हो जाना छत्तीसगढ़ बास्केटबाल खेल की अपूर्ण क्षति है
आपने जी तरह राजनादगांव को बास्केटबाल खेल में अंतरराष्ट्रीय स्तर तक पहचान मिला , साथ ही साथ आपकी कड़ी मेहनत व लगन से साईं सेन्टर राजनादगांव को राष्ट्रीय स्तर विशेष पहचान मिला । आपके बास्केटबाल प्रशिक्षण व नेतृत्व से छत्तीसगढ़ के आदिवासी अंचल ग्रामीण क्षेत्रों के आदिवासी बालिकाओं व नक्सल पीड़ित बालिकाओं को देश – विदेश में खेलने का अवसर मिला जिससे बास्केटबाल खेल के द्वारा छत्तीसगढ़ प्रदेश का मान बढ़ा। आप के स्थानांतरण से सरगुजा जिला का स्पेशल टैलेंट सर्च प्रोग्राम को बहूत प्रभावित होगा। आपका यह स्थानांतरण आपके लिए तरक्की होगा पर छत्तीसगढ़ में बास्केटबाल खेल अस्त होगा। आपके कुशल नेतृत्व व मार्गदर्शन का कमी खलेगी। 🙏🙏🙏🙏
www.cgsports.in

सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ परिवार की ओर से आपको दिल्ली पोस्टींग होने पर बहुत बहूत बधाई

सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ आप सभी से विशेष निवेदन है कि इस बार बच्चों को विशेष ध्यान रखना होगा। कोई भी किसी प्रकार का लापरवाही नहीं चलेगा। मास्क व  सोशल डिस्टेंस पालन बहुत जरूरी है और बार – बार सेनिटाइजर का प्रयोग करते रहें। ज्यादा से ज्यादा घर पर रहें और बाहर जाने से बचें। खेल से जुड़े गतिविधि घर ही करें।  एक्सरसाइज के खेल का स्कीलस का अभ्यास भी घर पर ही करें। समय – समय पर आपका गतिविधि भी मोबाइल के द्वारा लिया जाएगा साथ ही साथ निर्देशित भी किया जाएगा। आपका प्रतिभा खेल जगत को अति आवश्यक है इसका ख्याल भी आपको ही रखना है।
      आग्रह के साथ आप सभी को निर्देशित है।कि बाहर के गतिविधि से बचें और औरों को भी बचने का सलाह दें। सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ से जुड़े सभी खिलाड़ी व सदस्यों से अपिल करता हूँ। मैं राजेश प्रताप सिंह राष्ट्रीय कोच।

फिट इंडिया क्विज स्कूली बच्चों के लिए फिटनेस और खेल पर अपनी तरह की पहली राष्ट्रव्यापी प्रश्नोत्तरी है।  इस क्विज में देश के प्रत्येक राज्य/केंद्र शासित प्रदेश के प्रतिनिधि होंगे और यह ऑनलाइन और प्रसारण राउंड का मिश्रण होगा।  प्रश्नोत्तरी प्रारूप को एक समावेशी तरीके से डिजाइन किया गया है, जिसमें देश भर के स्कूली छात्रों को अपने साथियों के खिलाफ अपनी फिटनेस और खेल ज्ञान का परीक्षण करने का अवसर मिलेगा।  प्रश्नोत्तरी सभी आयु वर्ग के छात्रों के लिए खुली होगी, लेकिन प्रश्नों को इस तरह से तैयार किया जाएगा कि कक्षा 8 और उससे ऊपर के छात्रों द्वारा आसानी से उत्तर दिया जा सके।

फिट इंडिया क्विज, छात्रों को फिटनेस और खेल के बारे में अपने ज्ञान का प्रदर्शन करने के लिए एक राष्ट्रीय मंच प्रदान करते हुए, सदियों पुराने स्वदेशी खेल, अतीत के हमारे खेल नायकों और धैर्य पारंपरिक भारतीय सहित भारत के समृद्ध खेल इतिहास के बारे में छात्रों के बीच जागरूकता पैदा करने का भी प्रयास करता है।  जीवन शैली की गतिविधियाँ सभी के लिए फिट जीवन की कुंजी हैं।

सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ का प्रारम्भ

*बास्केटबाल*
सरगुजा जिला में बास्केटबाल खेल का प्रचलन बहुत ही पुराना है। यह खेल सरगुजा जिला में निश्चित जगहों पर खेला जाता था। मुख्य तह बास्केटबाल खेल सरगुजा जिला अंतर्गत नवापारा में स्थित सेन्ट जेवियर्स स्कूल के प्रांगण में खेला जाता था, इसके अलावा पी. जी. कालेज  अम्बिकापूर में खेला जाता था।
     सरगुजा जिला के अन्तर्गत  के ब्लाक सीतापुर में खेला जाता था।

**सरगुजा जिला में बास्केटबाल खेल का मुख्य रुप से अस्तित्व 2003 से प्रारम्भ हुआ। 2003 राजेश प्रताप सिंह के द्वारा बास्केटबाल खेल का क्लब बनाया गया। क्लब गठन करने के लिए स्कूल व कालेजों के छात्रों से सम्पर्क करने का प्रयास किया जाने लगा, इस प्रयास में राजेश प्रताप सिंह जी के बड़े भाई धनेश प्रताप सिंह जी बहुत सहयोग किये। 1998 में पी. जी. काॅलेज के बास्केटबाल टीम के प्रचलित खिलाड़ी हुआ करते थे। उन्होंने अपने बास्केटबाल टीम के सदस्यों के साथ सरगुजा में बास्केटबाल क्लब बनाने में सभी का सहयोग रहा।

बास्केटबाल खेल में राजेश प्रताप सिंह जी रुझान उनके बड़े भाई के कारण हुआ, 1996 में बड़े भाई के द्वारा बास्केटबाल घर पर लाया गया। वह बास्केटबाल पहली बार राजेश प्रताप सिंह जी को देखते ही रोचकता बढ़ गया, तभी अपने बड़े भाई से बास्केटबाल खेल के बारे पुछने लगे। बास्केटबाल खेल के बारे उनके बड़े भाई के द्वारा बताया गया। उसके बाद राजेश प्रताप सिंह जी ने बास्केटबाल खेल का अभ्यास करना प्रारंभ किया, धीरे-धीरे बास्केटबाल का ड्रिबल व शुटिंग करना सिख गये।
     उसके बाद राजेश प्रताप सिंह अपने दोस्तों के साथ इस खेल के बारे बताया और दोस्तों के साथ बास्केटबाल टीम बनाने लगे। टीम बनाने से लेकर टीम को सिखाने का कार्य स्वयं राजेश प्रताप सिंह करते थे।
राजेश प्रताप सिंह स्कूल बास्केटबाल टीम के कप्तान बने सरगुजा संभाग के, राजेश प्रताप सिंह के नेतृत्व में सरगुजा संभाग की टीम पहला राज्य स्तरीय भोपाल (मध्य प्रदेश) और दुसरा राज्य स्तरीय ग्वालियर (मध्य प्रदेश) खेले।
    राजेश प्रताप सिंह ने बताया कि उन्की पढ़ाई मल्टीपरपज स्कूल अम्बिकापूर हुई, उस वक्त मल्टीपरपज स्कूल में बास्केटबाल ग्राउंड के नाम पर एक पोल वाली टुटा – फुटा लकड़ी का बोर्ड हुआ करता था।
        राजेश प्रताप सिंह जब इनकी टीम ग्वालियर से बास्केटबाल खेल कर लौटी तब मल्टीपरपज स्कूल के तत्कालिन प्राचार्य आनंद दासगुप्ता व साथ ही मल्टीपरपज स्कूल के व्यायाम शिक्षक स्वर्गीय शोमनाथ राय हुआ करते थे।
           राजेश प्रताप सिंह की बास्केटबाल टीम व व्यायाम शिक्षक के साथ प्राचार्य के पास एक बास्केटबाल ग्राउंड बनाने का मांग रखा गया। इसी वर्ष स्कूल की पढ़ाई समाप्त हो गई। उसके अगले वर्ष तत्कालीन प्राचार्य आनंद दासगुप्ता व व्यायाम शिक्षक स्वर्गीय शोमनाथ राय सर द्वारा मल्टीपरपज स्कूल में बास्केटबाल ग्राउंड का निर्माण किया गया।

**4
   सरगुजा जिला में बास्केटबाल कल्ब का गठन 2003 किया गया। सरगुजा जिला के पहली बार पुरुष बास्केटबाल टीम बाहय प्रतियोगिता(ओपन चैम्पियनशिप प्रतियोगिता) के लिए बना। सरगुजा जिला का पहला ओपन चैम्पियनशिप प्रतियोगिता रायगढ़ खेलने गई, इस प्रतियोगिता में सरगुजा जिला की टीम का अच्छा प्रदर्शन रहा।
   सरगुजा जिला बास्केटबाल कल्ब का अस्थाई तौर पर सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ का गठन किया गया। सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ का प्रशिक्षण केन्द्र मल्टीपरपज स्कूल को बनाया गया, इस प्रशिक्षण केन्द्र में बास्केटबाल खेल का कोचिंग राजेश प्रताप सिंह के द्वारा प्रशिक्षण दिया जाने लगा। इस प्रशिक्षण केंद्र प्रारंभ में 10-11 लड़कों के द्वारा किया गया। 2005 सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ का पंजीयन कराया गया। 2005 सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ पुर्ण रुप अस्तित्व में आया।
     इस प्रकार सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ का संचालन शुरू हुआ। 2005 में स्थानीय स्तर का बालकों के लिए जिला स्तरीय प्रशिक्षण कैम्प लगाया गया।
    

राज्य स्तरीय फेंसिंग ट्रेनिंग में सरगुजा जिला के बालक – बालिकाओं ने फेंसिंग की तीनों विधा को नजदीक से जाना


सरगुजा के बालक – बालिकाओं ने फेंसिंग का हुनर सिखा

राज्य स्तरीय फेंसिंग ट्रेनिंग में सरगुजा जिला के बालक – बालिकाओं ने फेंसिंग की तीनों विधा को नजदीक से जाना
राज्य स्तरीय फेंसिंग ट्रेनिंग में सरगुजा जिला के बालक – बालिकाओं ने फेंसिंग की तीनों विधा को नजदीक से जाना

आज दिनांक 17 अक्टूबर दिन रविवार को गांधी स्टेडियम में राज्य स्तरीय फेंसिंग ट्रेनिंग प्रोग्राम का उद्घाटन शैलेन्द्र प्रताप सिंह सचिव – प्रदेश कांग्रेस कमेटी, आलोक सिंह (विधानसभा अध्यक्ष) प्रिष विश्वकर्मा ब्लाक उपाध्यक्ष कांग्रेस कमेटी, आषिश सिल प्रदेश उपाध्यक्ष युथ इंटेक, शौभिक दासगुप्ता, अभिमन्यु सिंह,
फेंसिंग (तलवारबाज़ी) ओलम्पिक खेलों में शामिल हैं, यह एक कम्बेट स्पोर्ट्स है, जिसमें व्यक्तिगत एवं टीम इवेंट खेले जाते है यह खेल तीन विधाओं में खेले जाते है, फॉयल इवेंट, इटली से जन्मा है इस विधा में शरीर क़े ऊपरी हिस्सा, कमर से ऊपर गले क़े नीचे एवं पीठ का हिस्सा लक्षित स्थान(टारगेट एरिया) वेपन की साइज 110 सेमी, वज़न 500ग्राम होता है।
एपी इवेंट फेंसिंग की दूसरी विधा है , इसमें टारगेट एरिया सम्पूर्ण शरीर होता है, वेपन की लम्बाई 110 सेमी एवं वज़न 770 ग्राम होता है,तीसरा इवेंट जो सबसे तेज़ गति से खेला जाता है वो सेबर इवेंट है इसी इवेंट में सी ए भवानी देवी ने ओलम्पिक खेलों में शुमार हुई थी और देश का नाम पुरे विश्व विख्यात किया, इसके वेपन की लम्बाई भी 110 सेमी. एवं वज़न 510 ग्राम होती है,
फेसिंग खेल की तकनीक फुटवर्क, वेपन वर्क,लांच, फिलच,
मुख्य तकनीक है.
फेंसिंग खेल का वर्तमान में पुरे भारत वर्ष क़े साथ-साथ छत्तीसगढ़ में उज्जवल भविष्य है , वर्तमान में छत्तीसगढ़ राज्य से केरल क़े साईं अकादमी में पाँच खिलाडी शामिल, ये सभी अंतराष्ट्रीय स्तर पर भारत ला प्रतिनिधित्व कर चुंकि है, एवं दो खिलाडी खेलों इंडिया क़े अंतर्गत नडियाद (गुजरात)में प्रशिक्षण ले रही है,
छत्तीसगढ़ की पोजशीन भारत में पदक तालिका में बालक वर्ग में तीसरा स्थान, और बालिका वर्ग में चौथे स्थान में है,
वर्तमान में छत्तीसगढ़ में उत्कृष्ट खिलाडी में आठ बालिका, एवं चार बालक में से दो एयरफोर्स, दो आर्मी में शामिल है, फेंसिंग खेल से खिलाड़ियों क़ो रोजगार क़े क्षेत्र मेंभी भविष्य सुखद है,
इस कार्यक्रम को सफल बनाने में डी. के. सोनी, आकाश सेठी, हरमिन्दर सिंह भामरा, गौरव सिंह, भीम सिंह, अभिमन्यु सिंह, आकाश चौपड़ा, मरियम एडगी, प्रिया जायसवाल, रींकी सिंह, प्रिंयका पैकरा, दिलीप गुप्ता, नवीन पावले एवं अन्य सभी खिलाड़ी।

खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के लिए सम्मान

सिद्धार्थ पब्लिक हायर सेकेंडरी स्कूल संस्था के प्राचार्य सी पी सिंह के द्वारा सम्मानित

आज सिद्धार्थ पब्लिक हायर सेकेंडरी स्कूल संस्था की ओर संस्था प्राचार्य सी. पी. सिंह के द्वारा खेल के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य के साथ खेल प्रोत्साहन व खेल प्रतिभा निखारने के लिए विशेष रुप सम्मान संस्था के सभी स्टाफ व विद्यार्थियों के समाने किया गया।

सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ की प्रशिक्षित खिलाड़ी कुमारी उर्वशी बघेल छत्तीसगढ़ जुनियर बालिका टीम के कप्तानी में जीते बाउंज मेडल।

उर्वशी बघेल ब्रांउज मेडल व ट्राफी के साथ

सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ के प्रशिक्षित खिलाडी कुमारी उर्वशी बघेल सरगुजा जिला की टेंलेंट सर्च प्रोग्राम व सरगुजा टेंलेंट का खोज में एक प्रतिभाशाली बास्केटबाल खिलाड़ी।

दीपावली के तैयारीयों में खिलाड़ी रंगोलीयों से खेल आस्था प्रकट करते हुए

सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ विगत 17 वषों से खिलाड़ियों के साथ दिपावली मनाते हुए
प्रति वर्ष के भांति इस वर्ष भी छोटी दिपावली के सुबह ग्राउंड का साफ-सफाई करने के लिए बालक – बालिका लग जाते हैं, बालिका खिलाड़ीयों के द्वारा बास्केटबाल खेल के विभिन्न आकृति के द्वारा खुबसूरत रंगोलीयों से बास्केटबाल ग्राउंड को सजाते हैं छोटे व बड़े बालिका खिलाड़ी मिलकर रंगोली बनाते हैं।
सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ के सचिव व राष्ट्रीय कोच राजेश प्रताप सिंह ने बताया कि सरगुजा जिला बास्केटबाल संघ 17 वर्षों से बास्केटबाल ग्राउंड पर दिपावली रंगों व दीप प्रज्वलित करके मनाते आ रहे हैं। बास्केटबाल ग्राउंड पर छोटे दिपावली व दीपावली के दीन बास्केटबाल ग्राउंड पर लगभग 1000-1000 दीप प्रज्वलित करके बास्केटबाल ग्राउंड को दीपों से सजाया जाता आ रहा है। प्रत्येक वर्ष बालक – बालिका खिलाड़ीयों का तैयारी व लगन देखते ही बनता है इससे खिलाड़ीयों का खेल व ग्राउंड के प्रति प्रेम व आस्था बढ़ता है।

दीपावली के तैयारीयों में खिलाड़ी रंगोलीयों से खेल आस्था प्रकट करते हुए
Surguja district basketball association Boys team
Surguja district basketball association Family
दीपावली के तैयारीयों में खिलाड़ी रंगोलीयों से खेल आस्था प्रकट करते हुए
दीपावली के तैयारीयों में खिलाड़ी रंगोलीयों से खेल आस्था प्रकट करते हुए

21 वीं राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता मुगेली में सरगुजा संभाग 25 मेडल जीते

21 वीं राज्य स्तरीय शालेय क्रीड़ा प्रतियोगिता मुगेली में सरगुजा संभाग 25 मेडल जीते
सिलम्बम के 10 मेडल के साथ सरगुजा संभाग 25 मेडल जीते

सरगुजा संभाग के 105 सदस्यों का दल में सिलम्बम, कैरम, आर्म रेस्लिंग और शतरंज के खिलाडी भाग लिए। इस प्रतियोगिता में सरगुजा संभाग का सराहनीय प्रदर्शन करते हुए सिलम्बम में 10, कैरम 5,आर्म रेस्लिंग 5 और शतरंज 5 के साथ कुल 3 गोल्ड मेडल, 5 सिल्वर मेडल और 17 ब्रांउज मेडल के साथ 25 जीतकर सरगुजा संभाग का मान बढ़ाया सरगुजा संभाग के सरगुजा जिला, बलरामपुर, कोरिया, सुरजपूर और जशपुर के खिलाड़ियों ने दल का प्रतिनिधित्व किया। इस दल में सरगुजा संभाग के राष्ट्रीय कोच राजेश प्रताप सिंह, हरि प्रसाद राजवाड़े, प्रिया जायसवाल, गोवर्धन, योगेन्द्र कुमार गुप्ता, सुमित्रा भगत, सीमा रोशनी , देव साय, सरिता गोस्वामी, रोशन पैकरा, बंसत कुमार, मनद्राचल और आलोक। #surgujadistrict #Sargujatalents #sports #rajeshbasketball

राष्ट्रीय ड्राप रोबाॅल चैम्पियनशिप में सरगुजा जिला के खिलाड़ियों का उत्कृष्ट प्रदर्शन

#surgujadistrict #Sargujatalents #sports #rajeshbasketball